Spread the love
        
 
        

मजबूत इम्यूनिटी हमारी कोरोना और फंगल संक्रमण से रक्षा करती है. हमें अपने खान-पान में उन चीजों को शामिल करना चाहिए जो कि हमारी इम्यूनिटी मजबूत करें.

कोरोना संक्रमण के बाद अब फंगल संक्रमण (ब्लैक फंगस) का खतरा लोगों पर मंडरा रहा है. ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. लेकिन हमारी मजबूत इम्यूनिटी इन दोनों खतरों से हमारी रक्षा कर सकती है. इसके लिए जरूरी है कि हम उन चीजों का सेवन कर जो हमारी इम्यूनिटी को बेहतर बनाए. हमारे शरीर को इम्यूनिटी देने में विटामिन सी बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है. इसलिए हमें उन फूड्स का सेवन करना चाहिए, जिनमें विटामिन सी ज्यादा होता है.

संतरा
एक मध्यम आकार के संतरे (100 ग्राम) में विटामिन सी की मात्रा 53.2 मिलीग्राम के करीब होती है. साइट्रिक युक्त फलों में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो कि हमारी इम्यूनिटी को मजबूत करते हैं.

अनानास
रोजाना अनानास का सेवन करने से वायरल और बैक्टीरियल दोनों संक्रमणों का खतरा कम हो सकता है क्योंकि इसमें विटामिन सी और मैंगनीज प्रचुर मात्रा में होते हैं. अनानास में कैलोरी कम होती है. इसे डाइट्री फाइबर और ब्रोमलेन भी होते हैं.

शिमला मिर्च
शिमला मिर्च भी विटामिन सी का अच्छा स्रोत है. इसमें बीटा कैरोटीन भी प्रचुर मात्रा में होता है. शिमला मिर्च खनिज और विटामिन भी होते हैं जो कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं. यह प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को भी कम करती है.

आंवला
आंवले में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है जो कि तंत्रिका तंत्र, प्रतिरक्षा प्रणाली और त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है. आंवले का सेवन मेटाबॉलिज्म को ठीक रखने, हड्डियों के बनने, प्रजनन और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने में भी मददगार है.

नींबू
नींबू विटामिन सी और एंटीऑक्सिडेंट का अच्छा स्रोत है. इनके अलावा भी इनमें बहुत से और पोषक तत्व होते हैं जैसे- थियामिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन बी-6, पैंटोथेनिक एसिड, कॉपर और मैंगनीज. नींबू में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर से फ्री रेडिकल्स को हटाने में सहायक हैं जो कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाकर संक्रमण का कारण बन सकती हैं.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की कानोड़ न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

Leave a Reply

error: Content is protected !!