नारनौल

आवारा सांड ने 95 वर्षीय बुजुर्ग महिला को टक्कर मारकर किया घायल, इलाज के दौरान महिला ने तोड़ा दम

Spread the love

  • सावधान! नारनौल में सड़काें पर मवेशी बने जान के दुश्मन

नारनौल । गांव ढाणी किरारोद अफगान में बेसहारा सांड ने अपने घर के बाहर खड़ी एक वृद्ध महिला पर हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया। इससे वृद्ध महिला की मौत हो गई। सांड के हमले से हुई महिला की मौत के बाद ग्रामीणों में भय का माहौल है। ग्रामीणों ने प्रशासन से गांव में घूमने वाले इस सांड को पकड़वाकर गाेशाला में छुड़वाने की मांग की है।

मृतका के पुत्र नत्थूराम ठेकेदार ने बताया कि उसकी मां 12 अप्रैल को पड़ाेस के घर से वापस अपने घर लौट रही थी। तभी रास्ते में खड़े एक सांड ने उसकी मां को सींगों से उठाकर उसे दूर फेंक किया। इस दौरान बुजुर्ग महिला करीब 10 फीट दूर जा गिरी। इस दौरान चोट लगने से बुजुर्ग महिला गंभीर रुप से घायल हो गई।

इसके बाद सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे परिजन उसे उपचार के लिए किसी वैद्य के पास सोहना-तावड़ू ले गए। जहां उपचार के दौरान महिला ने 13 अप्रैल को दम तोड़ दिया था। बुधवार को गांव में महिला का अंतिम संस्कार कर दिया गया। सांड के हमले से हुई महिला की मौत के बाद ग्रामीण में भय एवं रोष है। ग्रामीणों ने प्रशासन से इस सांड को जल्द से जल्द पकड़वाकर गाेशाला में छुड़वाने की मांग की है।

बता दें कि ठीक एक महीने पहले 14 मार्च को बेसहारा सांडों ने नारनौल के मोहल्ला सलामपुरा में एक विवाह समारोह के कार्यक्रम भी पांच महिलाओं को घायल कर दिया था। इस हादसे में कुछ महिलाओं को तो गंभीर चोट आई थी लेकिन संयोग ही था कि किसी प्रकार के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ था। इस हादसे के बाद नगर परिषद के अधिकारियों ने बड़े-बड़े दावे किए थे, लेकिन आज एक महीना बीत जाने के बाद भी समस्या जस की तस है।

शिकायत के बाद नहीं हुई कार्रवाई

इस मामले में महिला पार्षद संगीता शर्मा के देवर पिंटू शर्मा ने बताया कि शहर और वार्ड में बेसहारा गोवंश की शिकायत वह लिखित रूप में प्रशासन यहां तक की सीएम विंडो पर 15 महीने पहले कर चुका है, लेकिन हैरानी की बात है कि इस मामले में प्रशासन और नगर परिषद के अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही है।